Skip to main content

Featured post

विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर -1 Important Question Of Science

ऑपरेटिंग सिस्टम एवम उसके प्रकार

आइये जानते है ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में कुछ जानकारी 
ऑपरेटिंग सिस्टम सभी resources को मैनेज करने का काम करती है. जैसे memory, processor, इनपुट और आउटपुट devices.
Examples Of Operating Systems:
Windows Vista, XP, 7, 8, 10, UNIX, Linux etc.

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार 

  • उपयोग के आधार पर 

Batch Processing ऑपरेटिंग system

ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम जिसमे सभी कार्यो को बैच के रूप में एकत्रित करके किया जाता है .
इसका उपयोग बिल प्रिंटिंग सांख्यिकी विश्लेष्ण आदि बनाने में किया जाता है .

Real Time Operating System

यह एक मल्टीटास्किंग सिस्टम है जिसमे एक सिस्टम का आउटपुट दुसरे सिस्टम के input की तरह किया जाता है .

Tme Sharing Operating System

इस तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम में एक से अधिक उपयोग उपयोगकर्ताओ प्रोग्रामों को छोटे छोटे भागो को जिसे टाइम स्लाइस कहते है में बाँट दिया जाता है 

Single User Operating System

इसमें एक बार में एक ही यूजर कार्य कर सकता है

Multi User Operating System

सा ऑपरेटिंग सिस्टम जो एक समय में एक से अधिक उपयोगकर्ताओ को कार्य करने की अनुमति देता है.

Multi Tasking Operating System

ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम जो एक समय में एक से अधिक कार्य करने में सक्षम हो .

  • उपलब्ध के आधार पर 

ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम 
ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में ऑपरेटिंग सिस्टम, सर्वर, प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आदि कई प्रसिद्ध उदाहरण हैं। इन्हें इंटरनेट से नि:शुल्क डाउनलोड किया जा सकता है। 

 LINUX, Symbian, open BSD, Free BSD

कमर्शियल ऑपरेटिंग सिस्टम 

  • मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम 
ऐसे ऑपरेटिंग सिस्टम जो मोबाइल फ़ोन  में उपयोग किये जाते है .
android, apple ios, backbarry ios , window os., symbion etc.

कुछ महत्वपूर्ण ऑपरेटिंग सिस्टम 
  • यूनिक्स --मल्टीयूज़र ऑपरेटिंग सिस्टम है .
  • लिनक्स --इसका प्रयोग सर्वर के लिए किया जाता है ,ओपन सोर्स है .
  • सोलारिस -- सिस्टम मैनेजमेंट तथा नेटवर्क के कार्यो के लिए किया जाता है;
  • बॉस -- यह भारत का पहला ऑपरेटिंग सिस्टम है .



Comments

loading...

Popular posts from this blog

कुछ महत्वपूर्ण जीव .जन्तुओ के वैज्ञानिक नाम (list of scientific name of plants and animals)

वैज्ञानिक नाम मनुष्य---होमो सैपियंसकुछ जन्तुओ,फल,फूल के वैज्ञानिक नाम मेढक---राना टिग्रिना बिल्ली---फेलिस डोमेस्टिका कुत्ता---कैनिस फैमिलियर्स गाय---बॉस इंडिकस भैँस---बुबालस बुबालिस बैल---बॉस प्रिमिजिनियस टारस बकरी---केप्टा हिटमस भेँड़---ओवीज अराइज सुअर---सुसस्फ्रोका डोमेस्टिका शेर---पैँथरा लियोबाघ---पैँथरा टाइग्रिस चीता---पैँथरा पार्डुस भालू---उर्सुस मैटिटिमस कार्नीवेरा खरगोश---ऑरिक्टोलेगस कुनिकुलस हिरण---सर्वस एलाफस ऊँट---कैमेलस डोमेडेरियस लोमडी---कैनीडे लंगुर---होमिनोडिया बारहसिँघा---रुसर्वस डूवासेली मक्खी---मस्का डोमेस्टिका आम---मैग्नीफेरा इंडिका धान---औरिजया सैटिवाट गेहूँ---ट्रिक्टिकम एस्टिवियम मटर---पिसम सेटिवियम सरसोँ---ब्रेसिका कम्पेस्टरीज मोर---पावो क्रिस्टेसस हाथी---एफिलास इंडिका डॉल्फिन---प्लाटेनिस्टागैँकेटिका कमल---नेलंबो न्यूसिफेरा गार्टनबरगद---फाइकस बेँधालेँसिस घोड़ा---ईक्वस कैबेलस गन्ना---सुगरेन्स औफिसीनेरम प्याज---ऑलियम सिपिया कपास---गैसीपीयम मुंगफली---एरैकिस हाइजोपिया कॉफी---कॉफिया अरेबिका चाय---थिया साइनेनिसस अंगुर---विटियस हल्दी---कुरकुमा लोँगा मक्का---जिया मेज टमा…

अर्थालंकार एवं अर्थालंकार के प्रकार

अर्थालंकार 

उपमा अलंकार
जहाँ गुण , धर्म या क्रिया के आधार पर उपमेय की तुलना उपमान से की जाती है  वहा उपमा  अलंकार होता है .
उदहारण-सागर-सा गंभीर हृदय हो,गिरी- सा ऊँचा हो जिसका मन।
इसमें सागर तथा गिरी उपमान, मन और हृदय उपमेय सा वाचक, गंभीर एवं ऊँचा साधारण धर्म है।
रूपक अलंकार 

जिस जगह उपमेय पर उपमान का आरोप किया जाए, उस अलंकार को रूपक अलंकार कहा जाता है, यानी उपमेय और उपमान में कोई अन्तर न दिखाई पड़े.
 जैसे -अम्बर-पनघट में डुबो रही तारा-घट ऊषा-नागरी यहाँ  पर  अम्बर रूपी  पनघट।तारा रूपी घट।ऊषा रूपी नागरी है । उत्प्रेक्षा अलंकार उपमेय में उपमान की कल्पना या सम्भावना होने पर उत्प्रेक्षा अलंकार कहलाता  है. जैसे -सखि सोहत गोपाल के, उर गुंजन की मालबाहर सोहत मनु पिये, दावानल की ज्वाल।।

 अतिशयोक्ति अलंकार यहाँ पर गुंजन की माला उपमेय में दावानल की ज्वाल उपमान के संभावना होने से उत्प्रेक्षा अलंकार है। जिस स्थान पर लोक-सीमा का अतिक्रमण करके किसी विषय का वर्णन होता है। वहाँ पर अतिशयोक्ति अलंकार होता है।

जैसे -
हनुमान की पूँछ में लगन न पायी आगि।
सगरी लंका जल गई, गये निसाचर भागि।।
यहाँ पर हनुमान की पूँछ…

संज्ञा के प्रकार एवं उसके भेद

जिस शब्द से किसी प्राणी, वस्तु, स्थान, जाति, भाव आदि के 'नाम' का बोध होता है उसे संज्ञा कहते हैं
                                                                   अथवा
किसी जाति, द्रव्य, गुण, भाव, व्यक्ति, स्थान और क्रिया आदि के नाम को संज्ञा कहते हैं।
  जैसे - पशु (जाति), सुंदरता (((गुण), व्यथा (भाव), मोहन (व्यक्ति), दिल्ली (स्थान), मारना (क्रिया)।

संज्ञा के पांच भेद होते हैं : व्यक्तिवाचक संज्ञा जातिवाचक संज्ञा भाववाचक संज्ञा समूहवाचक संज्ञाद्रव्यवाचक संज्ञा  www.gkcurrent3.blogspot.com
व्यक्तिवाचक संज्ञा
जिस शब्द से किसी एक ही वस्तु या व्यक्ति का बोध हो, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं |
जैसे - अमेरिका, भारत, अनिल।

जातिवाचक संज्ञा
जिस संज्ञा शब्द से किसी व्यक्ति,वस्तु,स्थान की संपूर्ण जाति का बोध हो उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।
जैसे -कुत्ता, अध्यापक, किताब, दर्जी,गाय, घोड़ा, भैंस, बकरी, नारी, गाँव आदि.

भाववाचक संज्ञा 
जिस संज्ञा शब्द से पदार्थों की अवस्था, गुण-दोष, धर्म आदि का बोध हो उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं।
जैसे - बुढ़ापा, मिठास, बचपन, मो…