Skip to main content

Featured post

विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर -1 Important Question Of Science

भारत रत्न पुरस्कार विजेता



भारत रत्न पुरस्कार विजेता
भारतीय गणराज्य के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार को भारत रत्न के रुप में जाना जाता है। 2 जनवरी 1954 को ये अस्तित्व में आया। ये सम्मान केवल साहित्य, विज्ञान, लोक सेवा और कला के क्षेत्र में विशेष कार्य के लिये दिया जाता है। ये सम्मान भारत में किसी को भी लिंग, नस्ल और उम्र के भेदभाव के बिना प्रदान किया जाता है। पहले ये सम्मान कुछ क्षेत्रों तक ही सीमित था लेकिन दिसंबर 2011 से इसमें बदलाव हुआ और अब इसमें सभी प्रकार के क्षेत्रों को शामिल कर लिया गया है।
हर वर्ष अधिकतम 3 व्यक्तियों को इस सम्मान से नवाजा जा सकता है तथा प्रधानमंत्री की सलाह पर राष्ट्रपति इन्हें मनोनीत करता है। इस पुरस्कार के तहत भारत के राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित और पीपल के पत्ते के आकार का पदक प्रदान किया जाता है। प्राप्तकर्ता को इसके साथ किसी प्रकार का धन नहीं दिया जाता।
श्रेष्ठता के भारतीय क्रम में, भारत रत्न विजेता सातवें क्रम में आता है। लेकिन भारतीय संविधान के अनुच्छेद 18 के अनुसार भारत रत्न प्राप्तकर्ता कभी भी अपने नाम के साथ इसको उपनाम के रुप में नहीं जोड़ सकता।
1954
से, देश के 45 व्यक्तियों को इस गौरवपूर्णं और सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाजा जा चुका है। चलिये संक्षिप्त में उन महान पुरुष और महिलाओं के बारे में जानते है जिन्हें ये सम्मान प्राप्त हुआ।
1. वर्ष 1954 : चक्रवर्ती राजगोपालाचारी (1878–1972)
2.
वर्ष 1954 : डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (1888–1975)
3.
वर्ष 1954 : डॉ. चन्द्रशेखर वेंकटरमन (1888–1970)
4.
वर्ष 1955 : डॉ. भगवान दास (1869–1958)
5.
वर्ष 1955 : डॉ. मोक्षागुंडम विश्वेश्वरैया (1861–1962)
6.
वर्ष 1955 : जवाहरलाल नेहरू (1889–1964)
7.
वर्ष 1957 : गोविन्द बल्लभ पंत (1887–1961)
8.
वर्ष 1958 : डॉ. धोडो केशव कर्वे (1858–1962)
9.
वर्ष 1961 : डॉ​ बिधाचन्द्र राय (1882–1962)
10.
वर्ष 1961 : पुरुषोत्तमदास टण्डन (1882–1962)
11.
वर्ष 1962 : डॉ. राजेन्द्र प्रसाद (1884–1963)
12.
वर्ष 1963 : डॉ. जाकिर हुसैन (1897–1969)
13.
वर्ष 1963 : डॉ. पांडुरंग वामन काणे (1880–1972)
14.
वर्ष 1966 : लालबहादुर शास्त्री (मरणोपरांत) (1904–1966)
15.
वर्ष 1971 : इन्दिरा गांधी (1917–1984)
16.
वर्ष 1975 : वराहगिरि वेंकटगिरि (1894–1980)
17.
वर्ष 1976 : कुमारास्वामी कामराज (मरणोपरांत) (1903–1975)
18.
वर्ष 1980 : मेरी टेरेसा बोजाक्सिऊ (मदर टेरेसा) (1910–1997)
19.
वर्ष 1983 : आचार्य विनोबा भावे (मरणोपरांत) (1895–1982)
20.
वर्ष 1987 : खान अब्दुल गफ्फार खाँ (1890–1988)
21.
वर्ष 1988 : मरुदु गोपालन रामचन्द्रन (मरणोपरांत) (1917–1987)
22.
वर्ष 1990 : डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर (मरणोपरांत) (1891–1956)
23.
वर्ष 1990 : डॉ. नेल्सन रोहिल्हाल्हा मंडेला (1918–2013)
24.
वर्ष 1991 : राजीव गांधी (मरणोपरांत) (1944–1991)
25.
वर्ष 1991 : सरदार वल्लभभाई पटेल (मरणोपरांत) (1875–1950)
26.
वर्ष 1991 : मोरारजी रणछोड़जी देसाई (1896–1995)
27.
वर्ष 1992 : मौलाना अबुल कलाम आजाद (मरणोपरांत) (1888–1958)
28.
वर्ष 1992 : जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा (1904–1993)
29.
वर्ष 1992 : सत्यजीत रे (1922–1992)
30.
वर्ष 1997 : अरुणा आसफ अली (मरणोपरांत) (1909–1996)
31.
वर्ष 1997 : गुलजारीलाल नंदा (मरणोपरांत) (1898–1998)
32.
वर्ष 1997 : डॉ. अवुल पकीर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम (जन्म 1931)
33.
वर्ष 1998 : मदुराई षण्मुखावैदीवु सुब्बालक्ष्मी (1916–2004)
34.
वर्ष 1998 : चिदम्बरम सुब्रमण्यम (1910–2000)
35.
वर्ष 1999 : लोकनायक जयप्रकाश नारायण (मरणोपरांत) (1902–1979)
36.
वर्ष 1999 : प्रोफेसर अमर्त्य सेन (जन्म 1933)
37.
वर्ष 1999 : लोकप्रिय गोपीनाथ बादोलोई (मरणोपरांत) (1890–1950)
38.
वर्ष 1999 : पंडित रविशंकर (1920–2012)
39.
वर्ष 2001 : लता मंगेशकर (जन्म 1929)
40.
वर्ष 2001 : उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ (1916–2006)
41.
वर्ष 2008 : प. भीमसेन जोशी (1922–2011)
42.
वर्ष 2013 : सचिन तेंदुलकर (जन्म 1973)
43.
वर्ष 2013 : प्रो. सीएनआर राव (जन्म 1934)
44.
वर्ष 2014 : अटलबिहारी वाजपेयी (जन्म 1924)
45.
वर्ष 2014 : महामना मदन मोहन मालवीय (1861–1946)

Comments

loading...

Popular posts from this blog

कुछ महत्वपूर्ण जीव .जन्तुओ के वैज्ञानिक नाम (list of scientific name of plants and animals)

वैज्ञानिक नाम मनुष्य---होमो सैपियंसकुछ जन्तुओ,फल,फूल के वैज्ञानिक नाम मेढक---राना टिग्रिना बिल्ली---फेलिस डोमेस्टिका कुत्ता---कैनिस फैमिलियर्स गाय---बॉस इंडिकस भैँस---बुबालस बुबालिस बैल---बॉस प्रिमिजिनियस टारस बकरी---केप्टा हिटमस भेँड़---ओवीज अराइज सुअर---सुसस्फ्रोका डोमेस्टिका शेर---पैँथरा लियोबाघ---पैँथरा टाइग्रिस चीता---पैँथरा पार्डुस भालू---उर्सुस मैटिटिमस कार्नीवेरा खरगोश---ऑरिक्टोलेगस कुनिकुलस हिरण---सर्वस एलाफस ऊँट---कैमेलस डोमेडेरियस लोमडी---कैनीडे लंगुर---होमिनोडिया बारहसिँघा---रुसर्वस डूवासेली मक्खी---मस्का डोमेस्टिका आम---मैग्नीफेरा इंडिका धान---औरिजया सैटिवाट गेहूँ---ट्रिक्टिकम एस्टिवियम मटर---पिसम सेटिवियम सरसोँ---ब्रेसिका कम्पेस्टरीज मोर---पावो क्रिस्टेसस हाथी---एफिलास इंडिका डॉल्फिन---प्लाटेनिस्टागैँकेटिका कमल---नेलंबो न्यूसिफेरा गार्टनबरगद---फाइकस बेँधालेँसिस घोड़ा---ईक्वस कैबेलस गन्ना---सुगरेन्स औफिसीनेरम प्याज---ऑलियम सिपिया कपास---गैसीपीयम मुंगफली---एरैकिस हाइजोपिया कॉफी---कॉफिया अरेबिका चाय---थिया साइनेनिसस अंगुर---विटियस हल्दी---कुरकुमा लोँगा मक्का---जिया मेज टमा…

अर्थालंकार एवं अर्थालंकार के प्रकार

अर्थालंकार 

उपमा अलंकार
जहाँ गुण , धर्म या क्रिया के आधार पर उपमेय की तुलना उपमान से की जाती है  वहा उपमा  अलंकार होता है .
उदहारण-सागर-सा गंभीर हृदय हो,गिरी- सा ऊँचा हो जिसका मन।
इसमें सागर तथा गिरी उपमान, मन और हृदय उपमेय सा वाचक, गंभीर एवं ऊँचा साधारण धर्म है।
रूपक अलंकार 

जिस जगह उपमेय पर उपमान का आरोप किया जाए, उस अलंकार को रूपक अलंकार कहा जाता है, यानी उपमेय और उपमान में कोई अन्तर न दिखाई पड़े.
 जैसे -अम्बर-पनघट में डुबो रही तारा-घट ऊषा-नागरी यहाँ  पर  अम्बर रूपी  पनघट।तारा रूपी घट।ऊषा रूपी नागरी है । उत्प्रेक्षा अलंकार उपमेय में उपमान की कल्पना या सम्भावना होने पर उत्प्रेक्षा अलंकार कहलाता  है. जैसे -सखि सोहत गोपाल के, उर गुंजन की मालबाहर सोहत मनु पिये, दावानल की ज्वाल।।

 अतिशयोक्ति अलंकार यहाँ पर गुंजन की माला उपमेय में दावानल की ज्वाल उपमान के संभावना होने से उत्प्रेक्षा अलंकार है। जिस स्थान पर लोक-सीमा का अतिक्रमण करके किसी विषय का वर्णन होता है। वहाँ पर अतिशयोक्ति अलंकार होता है।

जैसे -
हनुमान की पूँछ में लगन न पायी आगि।
सगरी लंका जल गई, गये निसाचर भागि।।
यहाँ पर हनुमान की पूँछ…

संज्ञा के प्रकार एवं उसके भेद

जिस शब्द से किसी प्राणी, वस्तु, स्थान, जाति, भाव आदि के 'नाम' का बोध होता है उसे संज्ञा कहते हैं
                                                                   अथवा
किसी जाति, द्रव्य, गुण, भाव, व्यक्ति, स्थान और क्रिया आदि के नाम को संज्ञा कहते हैं।
  जैसे - पशु (जाति), सुंदरता (((गुण), व्यथा (भाव), मोहन (व्यक्ति), दिल्ली (स्थान), मारना (क्रिया)।

संज्ञा के पांच भेद होते हैं : व्यक्तिवाचक संज्ञा जातिवाचक संज्ञा भाववाचक संज्ञा समूहवाचक संज्ञाद्रव्यवाचक संज्ञा  www.gkcurrent3.blogspot.com
व्यक्तिवाचक संज्ञा
जिस शब्द से किसी एक ही वस्तु या व्यक्ति का बोध हो, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं |
जैसे - अमेरिका, भारत, अनिल।

जातिवाचक संज्ञा
जिस संज्ञा शब्द से किसी व्यक्ति,वस्तु,स्थान की संपूर्ण जाति का बोध हो उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।
जैसे -कुत्ता, अध्यापक, किताब, दर्जी,गाय, घोड़ा, भैंस, बकरी, नारी, गाँव आदि.

भाववाचक संज्ञा 
जिस संज्ञा शब्द से पदार्थों की अवस्था, गुण-दोष, धर्म आदि का बोध हो उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं।
जैसे - बुढ़ापा, मिठास, बचपन, मो…